11 साल के लड़के ने माता पिता को रिक्शा पर बैठाकर किया 600 किमी का सफर तय

11 year old bihar boy

कोरोना वायरस के कारण पूरा देश लॉकडाउन से उत्त्पन परेशानियो से जूझ रहा है कोरोना वायरस के वजह से पुरे देश में लॉकडाउन लगा है इस लॉकडाउन के चलते सबसे ज्यादा इस महामारी की मार गरीब मजदूरों को झेलना पड़ रहा है।

सभी मजदूर अपने राज्य छोड़ अन्य राज्यों में अपने जीवन का पालन पोषण करने के लिए गए थे परन्तु इस महामारी के कारण अब उनके भूखे रहने की नौबत आ गयी है जिसके कारण सभी मजदूर अपने घर की और चल रहे है।  

 इस बीच एक और खबर आयी है कि 11 साल के लड़के ने अपने माता पिता को रिक्शा पर बैठाकर वाराणसी से बिहार तक का सफर तय किया। लॉकडाउन के चलते यह वाराणसी में फँसे थे। सभी काम काज बंद होने के कारण और लॉकडाउन के बढ़ते रहने के कारण 11 साल के लड़के ने अपने माता पिता को रिक्शा पर बैठकर अपने गांव बिहार के अरारिया तक निकल पड़े। 11 साल के लड़के ने 600 किलोमीटर का यह सफर नौ दिन में पूरा कर अपने गांव बिहार पहुंचे।

ज्योति ने किया गुरुग्राम से बिहार तक का सफर 

इससे पहले  13 साल की बेटी ज्योति कुमारी ने एक हज़ार किलोमीटर से ज्यादा सफर तय कर अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर हरियाणा के गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा तक पहुंची थी।

Bihar girl jyoti

 ज्योति ने बताया कि उसने पापा को साइकिल पर बैठा कर 10 मई को गुरुग्राम से चलना शुरू किया और इस शनिवार 16 की शाम में घर पहुंची।जिसके बाद उसका यह वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया में सभी लोगो ने उस बेटी के जज्बे को सलाम किया।

हालंकि सरकार द्वारा मजदूरों को उनके घरो तक पहुंचाने के लिए श्रमिक ट्रैन और अन्य तरह ही व्यवस्थाएं की जा रही है लेकिन कई लोग पैदल ,रिक्शा या साइकिल से अपने घरो की और सैकड़ो किलोमीटर तक का सफर कर रहे  है। और वह जल्द से जल्द किसी की कीमत पर अपने घर तक पहुंचना चाहते है।

यह भी पढ़े – बॉलीवुड स्टार सोनू सूद बने रियल लाइफ हीरो बिहार में कुछ इस तरह बनाया स्टेचू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *